Thursday, 7 February 2013

बदल जायेगा मानव का इतिहास!


मानव के इतिहास की कहानी काफी दिलचस्प है. शुरुआती इतिहास को जानने की इसी दिलचस्पी के कारण मानवों के प्राचीन अवशेषों का अध्ययन आज भी जारी है. इसी कड.ी में नया अध्ययन सामने आया है कि मानवों की नीयनडर्थल्स और आधुनिक मानवों की प्रजाति का अस्तित्व एक साथ नहीं रहा है. अगर यह अध्ययन पूरी तरह सच साबित हुआ, तो मानव प्रजाति के आरंभिक इतिहास को फिर से लिखने की जरूरत पड. सकती है. अध्ययन में कहा गया है कि हमारे समतुल्य पूर्वजों का पलायन स्पेन में हुआ और यह पलायन पहले के अध्ययन की अपेक्षा कापी पहले हुआ था. उनकी हड्डियों के अवशेषों के आधार पर पता लगाया गया है कि उनका पलायन 50,000 वर्ष पहले हो गया था और ऐसा माना जाता है कि मानव इस क्षेत्र में 42000 वर्ष से पहले नहीं रहा होगा. अध्ययन के नतीजों में कहा गया है कि आखिरी नीयनडर्थल्स का पता लगाना आसान नहीं है, लेकिन इस बात के पुख्ता प्रमाण हैं कि यूरोपीय क्षेत्र में मानव और नियनडर्थल्स कभी एक साथ नहीं रहे होंगे. नेशनल अकेडमी ऑफ साइंस में छपे शोध में कहा गया है- हालांकि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि नीयनडर्थल्स 35,000 वर्ष पहले नहीं रहे होंगे. अध्ययनकर्ताओं ने यह अनुमान स्पेन में नीयनडर्थल्स क्षेत्र में 11 अवशेषों में से दो का अध्ययन करने के बाद लगाया है.


No comments:

Post a comment