Friday, 30 September 2022

एंटी-ड्रोन गन चिमेरा

 रक्षा क्षेत्र में उपलब्धि

भारतीय कंपनी गोदरेज (Godrej) ने फ्रांसीसी कंपनी सरबेयर (CERBAIR) के साथ मिलकर एंटी-ड्रोन गन (Anti-Drone Gun) बनाया है. इस गन के पूरे सिस्टम को कोई भी जवान अपने साथ लेकर किसी भी जगह आ जा सकता है. इसका नाम है चिमेरा 100 (Chimera 100). 

चिमेरा गन की मदद से 4 से 5 किलोमीटर दूर से आ रहे ड्रोन, यूएवी आदि को डिटेक्ट किया जा सकता है. उसे मारा जा सकता है. यह एक कंप्लीट एंटी ड्रोन सौल्यूशन है।चिमेरा गन की मदद से आप अपनी तरफ आते हुए ड्रोन का रेडियो फ्रिक्वेंसी जाम कर देते हैं. यानी यह एंटी-ड्रोन गन दुश्मन के ड्रोन को सिग्नल को जाम कर देता है. जिससे उसे उड़ाने वाला का संपर्क टूट जाता है. इसके बाद ड्रोन खुद ब खुद नीचे गिर जाता है. यह ड्रोन को गिराने से पहले आपको अलर्ट कर देगा. अलर्ट आपके हाथ के रिमोट में बजने लगेगा. आते हुए ड्रोन की तस्वीर, मैप और लोकेशन भी पता चल जाएगा

इसे लेकर चलने वाले जवान के शरीर पर एक बैकपैक में पूरा सिस्टम लगा होता है. जिसका एंटीना दूर से ही आते हुए ड्रोन को डिटेक्ट कर लेता है. उसे पहचानता है कि वो ड्रोन है या अनमैन्ड एरियन व्हीकल. निगरानी वाला ड्रोन है या फिर हमला करने वाला. इसके बाद उसे ट्रैक करके उसे निष्क्रिय कर देता है. 

चिमेरा 100 एंटी ड्रोन गन की मदद से पाकिस्तानी और चीनी ड्रोन्स को मार गिराया जा सकता है. इसका उपयोग सियाचिन जैसे इलाकों में भी किया जा सकता है.

Saturday, 24 September 2022

आम लोगों तक कब पहुंचेगा जेनेटिक इलाज

चंद्रभूषण

ह्यूमन जीनोम प्रॉजेक्ट सन 2003 में पूरा हुआ। इंसान का जेनेटिक ढांचा पूरा का पूरा डिकोड कर लिया गया। मानव जीवन के बहुत लंबे, उलझे हुए सॉफ्टवेयर का कौन सा हिस्सा कोई काम कैसे पूरा करता है, इसकी एक मोटी समझ भी बन गई। फिर ऐसे दावों की भरमार देखने को मिली कि छोटी-मोटी चोट-चपेट या वायरल इनफेक्शन के अलावा जल्द ही कोई स्वास्थ्य समस्या शेष नहीं बचेगी। लोग अपनी जीनोम सीक्वेंसिंग कराकर रख लेंगे, डॉक्टर उसी हिसाब से सटीक प्रेस्क्रिप्शन लिख देंगे और अस्पतालों पर ताला पड़ जाएगा। लेकिन व्यवहार में इसका उलटा देखने को मिल रहा है।

हेल्थकेयर इंडस्ट्री और इससे जुड़े बीमे पर अब सिर्फ इनके मुनाफे से जोड़कर बातें होती हैं। बीमारी कैसी भी क्यों न हो, उसका इलाज दिनोंदिन टेढ़ा होता जा रहा है। नब्बे के दशक में ग्लोबलाइजेशन के साथ एक बड़ा बदलाव यह आया कि मेडिकल साइंस और मेडिकल ढांचे का जोर आम स्वास्थ्य समस्याओं से हटकर खास बीमारियों की तरफ हो गया। सरकारी अस्पतालों का बजट घटाने से पहले टीबी और मलेरिया जैसी बड़े दायरे की बीमारियों से जुड़े कम्यूनिटी मेडिसिन विभाग बंद कर दिए गए, जबकि निजी अस्पतालों में कैंसर मैनेजमेंट और दिल की बीमारियों वाले हिस्से अपनी फाइव स्टार सुविधा के लिए चर्चा में आने लगे। 

कोविड जैसी महामारी के झटके से भी यह रुझान नहीं पलटने वाला। अलबत्ता इधर इसमें एक नया उछाल यह दिख रहा है कि जीन थेरैपी का एक अलग क्लास बन रहा है, जिसमें एक इंसान के इलाज में लाखों डॉलर लगते हैं। इसका तो हिसाब लगाना भी एक आम हिंदुस्तानी के लिए खासा मुश्किल है।

* दुनिया भर में लगभग 7000 बीमारियों को ‘रेयर जेनेटिक डिजीज’ का दर्जा हासिल है, जिन्हें मेडिकल साइंस के धंधे में जुटे लोग फिलहाल सोने की खान मानकर चल रहे हैं। 

* ये बीमारियां कुछ गिने-चुने लोगों में ही मिलती हैं लेकिन ये ऐसी असाधारण भी नहीं हैं। ऑटिज्म, डाउन सिंड्रोम, थैलिसीमिया, कम उम्र में नजर गायब होना वगैरह। इनमें कुछेक का जेनेटिक इलाज इधर के सालों में खोज लिया गया है, हालांकि यह महंगा ही नहीं, मुश्किल भी है। 

* 2019 में ऐसी लगभग 1000 जीन थेरैपीज दुनिया में मौजूद थीं, जो जून 2022 तक 2000 हो गईं। ऐसी सरपट रफ्तार मेडिकल साइंस में शायद ही कभी देखने को मिली हो। 

* धंधे पर आएं तो वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के मुताबिक, जीन थेरैपी का ग्लोबल बाजार अभी 5.33 अरब डॉलर का है, लेकिन अगले पांच साल में, यानी 2027 तक इसके 19.88 अरब डॉलर तक पहुंच जाने का अनुमान है।

इस सोने की खान की खुदाई के लिए पैसा भी बरसने लगा है। पिछले साल, सन 2021 में 1308 डेवलपर जीन थेरैपी से जुड़ी तकनीकें विकसित करने में जुटे थे और उनकी कंपनियों ने 22.7 अरब डॉलर का निवेश जुटा रखा था। यह रकम 2019 की तुलना में 57 फीसदी ज्यादा थी। एक बात तय है कि इन इलाजों में अब कोई घपलेबाजी नहीं हो रही है। 

दस-बारह साल पहले रीढ़ से जुड़ी अपंगता के जेनेटिक ट्रीटमेंट में एक बड़ा घपला दक्षिण कोरिया से उठा था, लेकिन फिर ऐसे मामले नहीं सुनने में आए। थेरैपी सही होने के बावजूद सारे इलाज कामयाब ही होते हों, ऐसा नहीं है। लेकिन जितनी नाकामी किसी नई थेरैपी में देखने को मिलती है, उसके बरक्स कामयाबी के मामले यहां इतने ज्यादा हैं कि बीटा थैलिसीमिया के इलाज के लिए बंदे 28 लाख डॉलर लगाने को तैयार हैं। अभी ऐसी बीमारियों का जीवन भर इलाज चलता है। कोई लक्षण उभरने पर उससे निपटने के उपाय किए जाते हैं। इस थेरैपी के साथ एक अच्छी बात यह है कि एक ही बार में इलाज हो जाता है। 

लेकिन जरा इलाज के खर्चे के बारे में सोचिए। 28 लाख डॉलर यानी लगभग 25 करोड़ रुपये। और इसके लिए जिस तरह की प्रयोगशाला की जरूरत पड़ती है, वह भी हर जगह नहीं मिलती। इलाज के लिए सिर्फ एक इंजेक्शन काफी होता है, लेकिन इसमें दी जाने वाली दवा मरीज की जेनोम एडिटिंग करके बनाई जाती है। ऐसी एडिटिंग के उपकरण हर जगह नहीं मिलते और मरीज का रॉ और एडिटेड जेनेटिक मटीरियल बहुत दूर लाने-ले जाने का जोखिम नहीं उठाया जा सकता।

मेडिकल इंडस्ट्री की तरफ से अभी कोशिश यह चल रही है कि सरकारों को कन्विंस करके हेल्थ बीमा का कोई ऐसा ढांचा बनाया जाए, जिसमें सरकारें, रिसर्च कंपनियां और बीमा कंपनियां मिलकर करोड़ों रुपये के इलाज की गुंजाइश ठीक तरह बना दें, जैसे अभी लाखों रुपये के इलाज के लिए बनाए हुए हैं। इस काम में जोर-जबर्दस्ती भी नहीं की जा सकती क्योंकि कंपनियों को फायदा नहीं मिलेगा तो वे रेयर जेनेटिक बीमारियों का इलाज खोजने में इतनी बड़ी पूंजी क्यों लगाएंगी। लेकिन कुल मिलाकर शोध, निवेश और उपचार की यह दिशा ठीक नहीं लगती। 

ह्यूमन जेनोम प्रॉजेक्ट से दुनिया भर में मेडिकल साइंस को लेकर जो उम्मीदें जगी थीं, वे तो इस रास्ते पर चलकर कभी नहीं पूरी होने वाली। कुछ शोधकर्ताओं का कहना है कि पहला ह्यूमन जेनोम तैयार करने में तीन अरब डॉलर और तेरह साल लगे थे, लेकिन बीस साल भी नहीं हुए और अभी यह गिनती के कुछेक दिन लगाकर 100 डॉलर से भी कम खर्चे में तैयार हो जाता है। यह तो हुई जेनेटिक ढांचा पढ़ने की बात। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिये इसकी गड़बड़ियां जल्दी पकड़ में आ सकती हैं, सो अभी दिखने वाले ऐसे इक्का-दुक्का चमत्कार आगे रोजमर्रा की बात हो जाएंगे। 

* क्रिस्पर-कैस 9, बेस एडिटिंग, प्राइम एडिटिंग जैसे गड़बड़ी दुरुस्त करने वाली तकनीकें अभी बहुत महंगी पड़ती हैं। लेकिन जिन समाजों में ऐसी बीमारियां ज्यादा हैं, वहां की सरकारें कोशिश करें तो अगले दस-पंद्रह सालों में इन्हें सस्ता बनाया जा सकता है। 

* इतना तय है कि ये उपाय न सिर्फ बीमारियों का एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक जाना रोक सकते हैं, बल्कि कुछ लाइलाज बीमारियों को इलाज के दायरे में ला सकते हैं। गरीब देशों की बड़ी बीमारी सिकल सेल एनीमिया से ऐसे ही निपटा जा सकता है

बहरहाल, सवाल सपना दिखाने का नहीं, सपने को हकीकत में बदलने का है। दुनिया भर में सरकारों की प्राथमिकता अभी बड़ी कंपनियों का रुख देखकर तय होने लगी है, जो अपनी तिमाही बोर्ड बैठक में मुनाफे की ग्रोथ दिखाने से आगे नहीं सोचतीं। जरूरत हर बीमारी, हर इलाज को इंसान की जेनेटिक बनावट की नजर से देखने की है। कौन सा एंटीबायोटिक किस व्यक्ति को कितना दिया जाना चाहिए, इसके लिए व्यक्तियों का जेनेटिक वर्गीकरण किया जाए।

इसके लिए सबकी जेनोम टेस्टिंग जरूरी न हो, ऐसे उपाय खोजे जाएं। किस व्यक्ति को कम उम्र में डायबिटीज हो सकती है, कैंसर या हार्ट डिजीज की आशंका किसमें ज्यादा है, ऐसे टेस्ट ईजाद करने का अजेंडा ह्यूमन जेनोम प्रॉजेक्ट पूरा होने के बाद नए ढंग से मेडिकल साइंस के सामने होना चाहिए था, पर यह आज भी दूर-दूर तक नहीं है। किस्सा ऐसे ही चला तो अगले दस-बीस साल अमेरिका-यूरोप में लाख-करोड़ डॉलर के इलाज वाली खबरें देखते ही निकल जाएंगे।

Thursday, 4 August 2022

गणना और गणितज्ञ

चंद्रभूषण

कंप्यूटर से भी तेज गणनाओं के लिए मशहूर रही शकुंतला देवी पर फिल्म बनाना जीवट का काम रहा होगा। इस मामले में सबसे अच्छी बात यह रही कि स्क्रिप्ट का आधार उनकी बेटी की किताब को बनाया गया, जिससे एक खास काम में असाधारण मानी गई इस बेचैन स्त्री के जीवन की जटिलता पर सबका ध्यान जा सका। भारत की शीर्ष गणितीय प्रतिभा श्रीनिवास रामानुजन को ऐसी कोई सुविधा नहीं प्राप्त थी, सो उनपर बनी हॉलीवुड की फिल्म बेहतर होते हुए भी शकुंतला देवी की तरह उनके जीवन की बारीकियों में नहीं जा सकी। 

उस फिल्म का अच्छा पहलू यह था कि कुछ दिलचस्पी हम रामानुजन के काम में भी ले सके, जबकि पर्दे पर शकुंतला देवी का चमत्कारी गुणा-भाग देखना दूसरी बार से ही बोर करने लगा था और पूरी फिल्म में ऐसे सीन हूबहू बहुत बार दोहराए गए। दर्शक भी सोच रहे होंगे कि 12 या 14 अंकों वाली दो संख्याओं का गुणा बार-बार देखने में भला किसी को कितना मजा आ रहा है, जो मुर्गे सी अकड़ी विद्या बालन तालियों पर तालियां बटोरती ही चली जा रही हैं! 

फिल्म की एक बड़ी गलती शकुंतला देवी को शुरू से आखिर तक मैथमेटिशियन (गणितज्ञ) बताना है। हो सकता है, उस समय कुछ अखबार उन्हें गणितज्ञ लिखते भी रहे हों। लेकिन तेज गणनाओं या एक नजर में किसी चीज का क्षेत्रफल या वजन बता देने का तमाशा मध्यकालीन यूरोप और अमेरिका में शहरी मध्यवर्ग के लिए मनोरंजन का एक जरिया हुआ करता था और यह तमाशा दिखाने वाले मैथमेटिशियन नहीं बल्कि ‘प्रॉडिगल कैलकुलेटर’ (चमत्कारिक संगणक) ही कहलाते थे।

जब-तब गणितज्ञों की दिलचस्पी भी उनमें होती थी, लेकिन उनका चमत्कार देखने के बजाय उनके काम का तरीका समझने में। हां, अगर इनमें से किसी में भी कुछ गणितीय प्रतिभा उन्हें दिख जाती थी तो उसे विकसित करने का पूरा प्रयास वे करते थे। गणनात्मक प्रतिभा और गणितीय मेधा में फर्क करना एक पेचीदा बात है, लेकिन दोनों की ठोस इंसानी शक्लें देखनी हों तो अपने यहां उन्हें हम शकुंतला देवी और श्रीनिवास रामानुजन की तस्वीरों में देख सकते हैं।

गणित की व्यापक परिभाषा पैटर्न पकड़ने और उनमें नियमों की तलाश करने के रूप में की जाती है है। ये पैटर्न संख्याओं के भी हो सकते हैं और बादलों की शक्ल या बाढ़ में पुल से गुजरने वाले पानी के भी। शकुंतला देवी अपनी गणनाओं में जो पैटर्न इस्तेमाल करती थीं, उनमें से कुछ उन्होंने बाद में शेयर किए, लेकिन गणितज्ञों की तो क्या कहें, आम आदमी के लिए भी ये किसी काम के नहीं निकले। इसके विपरीत रामानुजन का जोर पैटर्न्स में पैठे नियमों की तलाश पर था और आज भी चोटी के गणितज्ञ उनके सुझाए हुए किसी प्रमेय का प्रमाण खोजकर गौरवान्वित महसूस करते हैं। 

दुनियादारी की नजर से देखें तो पैसे-रुपये की जरूरत और कमाई के तरीकों से बेखबर रामानुजन मात्र साढ़े 32 साल की उम्र में टीबी के शिकार होकर परदेस में मरे, जबकि हर किसी पर शक करने वाली शकुंतला देवी ने अरबपति ज्योतिषी के रूप में साढ़े 83 की उम्र में प्राण त्यागे। बड़ी प्रतिभाओं का उपयोग पैसे के बजाय कुछ ज्यादा बड़ी चीजें पैदा करने में होना चाहिए, यह सोच भी अब कहां देखने को मिलती है!

Tuesday, 2 August 2022

दो चुम्बक एक दूसरे को क्यों आकर्षित करतें हैं ?

 सुशोभित

नोबेल पुरस्कार विजेता भौतिकविद रिचर्ड फ़ेनमान से एक बार किसी ने पूछा कि दो चुम्बक एक-दूसरे को क्यों आकर्षित करते हैं? सीधा-सा प्रश्न था, लेकिन फ़ेनमान ने इसका जो उत्तर दिया, वह सुनने जैसा है। फ़ेनमान ने कहा कि वॉट डु यू मीन, ऐसा क्यों होता है? मैं तुम्हें बतला सकता हूँ कि ऐसा कैसे होता है, लेकिन यह मत पूछो कि ऐसा क्यों होता है। क्यों का कोई उत्तर नहीं है। कैसे का उत्तर हो सकता है कि कैसे इलेक्ट्रोमैग्नेटिज़्म काम करता है, कैसे पदार्थ के भीतर एटम्स और एटम्स के भीतर सबएटॉमिक पार्टिकल्स का कॉन्फ़िगरेशन होता है और कैसे इलेक्ट्रॉन्स की पोज़िशनिंग मैग्नेटिज़्म को जन्म देती है। लेकिन ऐसा क्यों होता है, यह सवाल अप्रासंगिक है।

इससे आगे फ़ेनमान ने कहा, तुम मुझसे यह नहीं पूछते कि जब मैं मेज़ पर हाथ रखता हूँ तो मेरा हाथ उसके आर-पार क्यों नहीं चला जाता? जबकि वहाँ भी वही इलेक्ट्रोमैग्नेटिज़्म काम कर रहा है। लेकिन जब हम किसी चीज़ को वस्तुस्थिति की तरह स्वीकार कर लेते हैं तो फिर उसके बारे में प्रश्न नहीं करते। हम उन्हें टेकन-फ़ॉर-ग्रांटेड लेते हैं। ये चीज़ें कॉमन सेंस का निर्माण करती हैं, क्योंकि हम उनके अभ्यस्त होते हैं। जबकि ऐसी कोई परिघटना नहीं है, जिस पर कैसे और क्यों के प्रश्न नहीं थोपे जा सकते। जैसे कि अगर मैं तुमसे कहूँ कि एनी बर्फ़ पर फिसलकर गिर गई और अपनी हिप तुड़वा बैठी, जिसके बाद उसके पतिदेव उसे हस्पताल ले गए, तो आप कहेंगे कि ओह, बहुत बुरा हुआ! लेकिन आप यह नहीं पूछेंगे कि यह क्यों और कैसे हुआ। क्योंकि आप एक फ्रेमवर्क में सोच रहे हैं, जहाँ बहुत-सी चीज़ें पहले ही अंडरस्टुड हैं। लेकिन अगर कोई प्राणी दूसरे प्लैनेट से आएगा तो वो अनेक सवाल पूछेगा, जैसे एनी नीचे क्यों गिरी? तब उसको ग्रैविटी समझानी होगी। बर्फ़ पर वह क्यों फिसली? तब उसको पानी की विभिन्न अवस्थाएँ समझानी होंगी। उसे चोट क्यों लगी? इसका सम्बंध ह्यूमन एनॉटोमी से है। उसके पतिदेव उसे अस्पताल क्यों ले गए? इसका नाता मानवीय सम्बंधों से है, क्योंकि एक परिवार में रहने वाले मनुष्य एक-दूसरे की परवाह करते हैं। किन्तु अगर उस एलीयन ने पूछ लिया कि क्या एक परिवार में रहने वाले सभी मनुष्य एक-दूसरे की परवाह करते हैं, तो इसका उत्तर देना कठिन होगा। यानी जितना आप चीज़ों के भीतर जिज्ञासा से प्रवेश करते हैं, उतनी ही वे जटिल होती चली जाती हैं। लेकिन अगर आप चीज़ों को जस की तस स्वीकार कर लेते हैं तो आप उनके आधार पर बड़े आराम से अपनी आस्थाओं और मूल्यों का निर्माण कर सकते हैं और पूरा जीवन उनके घेरे में रहकर बिता सकते हैं। चुम्बक एक-दूसरे को आकर्षित करते हैं और एनी को चोट लगने पर अस्पताल ले जाया गया- बात समाप्त हो गई- इसमें अब और क्या पूछना है?

लेकिन पूछना तो होता है। और जानना भी होता है। मसलन, यहीं आप देखें कि दो तरह की संरचनाएँ काम कर रही हैं। एक तो वे जो प्राकृतिक नियमों के अधीन हैं, जैसे ग्रैविटी, मनुष्य की देह, पानी की अवस्थाएँ। लेकिन कुछ संरचनाएँ मानव निर्मित भी हैं, जैसे परिवार, अस्पताल आदि। हर मनुष्य किन्हीं प्राकृतिक नियमों के अधीन है और चाहकर भी उनसे मुक्त नहीं हो सकता। किन्तु कुछ ऐसे मानव-निर्मित नियम, मूल्य, आस्थाएँ भी हैं, जिन्हें स्वयं मनुष्य ने आविष्कृत किया है, किन्तु वो इतने समय से उनका पालन कर रहा है कि अब वह भूल ही गया है कि ये उसकी ही करामातें हैं, प्रकृति में इनका कोई अस्तित्व नहीं था।

जैसे कि ईश्वर। मनुष्य से पहले ईश्वर नहीं था। यह बड़े मज़े की बात है, क्योंकि हम कहते हैं मनुष्य ईश्वर की संतान है। वास्तविकता यह है कि ईश्वर मनुष्य की संतान है, मनुष्य ने ईश्वर को जन्म दिया है। मनुष्य पृथ्वी पर 25 लाख सालों से है और पृथ्वी साढ़े चार अरब साल पुरानी है। जब मनुष्य पृथ्वी पर नहीं था, तब यहाँ ईश्वर भी नहीं था। प्रकृति ने अपनी ओर से ऐसे कोई स्ट्रक्चर्स नहीं बनाए हैं, जिन्हें आप मूर्ति या मंदिर या पवित्र पत्थर या स्थान कहें और अगर वे हैं भी तो उनकी ईश्वर के रूप में व्याख्या मनुष्य ने की है, प्रकृति ने नहीं की है। वह मनुष्य का अपना प्रोजेक्शन है। राष्ट्र, समाज, संस्कृति, परिवार, धन आदि भी इसी तरह से मनुष्य-निर्मित व्यवस्थाएँ हैं। एक काग़ज़ का टुकड़ा है। उस पर कुछ चिह्न अंकित कर दें तो वह धनराशि बन जाती है, मुद्रा बन जाती है, उसका मूल्य निश्चित हो जाता है, यह मूल्य अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में घटता-बढ़ता है। एक पत्थर पड़ा है, उसे तराशकर मूर्ति बना दें या किसी पवित्र माने जाने वाले स्थान पर प्रतिष्ठित कर दें तो अब करोड़ों लोग उसके लिए मरने-मारने पर आमादा हो जाएँगे। कपड़ा है। उस पर रंगों का संयोजन कर दें तो वह झण्डा बन जाएगा, उससे गौरव की भावनाएँ जुड़ जाएँगी। जबकि राष्ट्रीय प्रतीक बीसवीं सदी में ईजाद की गई व्यवस्थाएँ हैं, क्योंकि राष्ट्र-राज्य स्वयं एक आधुनिक राजनैतिक प्रबंध है। प्राकृतिक होना तो दूर, वे ऐतिहासिक भी नहीं हैं- जैसे परिवार की एक ऐतिहासिकता क़बीलाई दौर से अब तक बनी हुई है। यहाँ यह भी मज़े की बात है कि पृथ्वी पर कोई राजनैतिक सीमारेखाएँ नहीं हैं, यह मनुष्यों की कल्पना में है, किन्तु मनुष्यों का लगाव पृथ्वी से उतना नहीं है, जितना कि काल्पनिक सीमारेखाओं में बँधे राष्ट्र से होता है। हर नागरिक को यह भ्रम है कि उसका देश पृथक से एक संयोजन है और पृथ्वी से पृथक है।

यह कैसे होता है, इसको समझें। मान लीजिये, आप एक विशाल भूखण्ड पर टहल रहे हैं। आप पूरा दिन उस पर आराम वे चलते हैं, कहीं कुछ नहीं होता। फिर वहाँ एक बड़ा-सा गोल घेरा खींच दिया जाता है। वहाँ एक क्रिकेट स्टेडियम बन जाता है। सीमाएँ खींच दी जाती हैं। पिच बनती हैं। पिच में क्रीज़ बनते हैं। नियम बाँधे जाते हैं कि बल्लेबाज़ और गेंदबाज़ इस क्रीज़ को लाँघ नहीं सकेंगे और उस सीमारेखा के पार गेंद जाने पर या इस पिच के बीच दौड़ लगाने पर रन माने जाएँगे। ये तमाम नियम मनुष्यों ने ही बनाए हैं और उन्हें उस भूखण्ड पर आरोपित किया है, जो निरंक था और देखा जाए तो अब भी है। उस स्टेडियम में विश्वकप का फ़ाइनल मुक़ाबला होता है। अंतिम गेंद पर दो रन चाहिए। बल्लेबाज़ पहला रन पूरा करके दूसरे के लिए दौड़ता है। वह बल्ला क्रीज़ पर टिकाता है और गिल्लियाँ उड़ा दी जाती हैं। क्या वह रनआउट हो गया है? बड़ी स्क्रीन पर दिखाया जा रहा है और निर्णय पेंडिंग है। अगर वह बल्लेबाज़ भारत का है और उसने सफलतापूर्वक रन पूरा कर लिया है तो भारत विश्वकप जीत जाएगा और सवा अरब लोग जश्न मनाएँगे, उससे राष्ट्रीय गौरव को जोड़ लेंगे और उस पर विश्व में उनकी श्रेष्ठता का सिद्धांत निर्भर होगा। बड़ी स्क्रीन पर बार-बार दिखाया जा रहा है कि मामला क़रीबी है और चंद सेंटीमीटर के भेद से कहानी इधर-उधर हो सकती है। तब मान लीजिये, आप घूमते-घामते उस जगह पर चले आएँ, जिन्होंने अतीत में उस भूखण्ड पर टहलते हुए पूरा दिन बिताया था तो आप इस सबसे चकित होंगे। आप कहेंगे कि मैं कई कोस उस भूमि पर उस दिन चला और कुछ भी नहीं हुआ, किन्तु आज चंद सेंटीमीटर के अंतर पर राष्ट्र-गौरव निर्भर है। मान लें कि बल्लेबाज़ ने रन पूरा कर लिया और भारत ने विश्वकप जीत लिया। जश्न मनाया गया, शोरगुल हुआ, पुरस्कार बाँटे गए। रात हुई। सब सो गए। तब अगर कोई व्यक्ति रात के अँधेरे में उस क्रिकेट-मैदान में प्रवेश कर जाए और उसी पिच पर टहले तो वह पाएगा यह तो वही निरा भूखण्ड है जैसा कि वह पहले था, लेकिन बीच में इसमें कुछ समीकरण गूँथ दिए गए थे, जिनके कारण इसके एक-एक इंच का महत्व हो गया था। इसे ही माया कहते हैं। यह धरती प्रकृति-निर्मित है और वे समीकरण मानव-निर्मित थे। और अलबत्ता मैच देखने में बड़ा मज़ा आया था, किन्तु सच यही है कि वह मनुष्य ने स्वयं रचा था। मनुष्य उसके नियमों का पालन करे ये ठीक है, पर उसको प्राकृतिक सत्य मानकर उसके अधीन हो जावे, इसकी कोई तुक नहीं बनती है।

अगर मनुष्य यह सोचना शुरू कर दें कि हमारे आसपास जितनी भी चीज़ें हैं, उनमें से कितनी प्रकृति-निर्मित हैं, कितनी मानव-निर्मित हैं और कितनी ऐसी हैं, जो प्राकृतिक होने के बावजूद मानव-निर्मित हैं- जैसे डोमेस्टिक एनिमल्स, जिनका मौजूदा स्वरूप मनुष्यों के आर्टिफ़िशियल सिलेक्शन का नतीजा है। या ईंट-गारे के मकान, जो स्वयं किन्हीं मोलेक्यूल्स और एटम्स से निर्मित संरचनाएँ थीं, जिन्हें मनुष्यों ने और परिष्कृत संरचनाओं के रूप में कंस्ट्रक्ट कर दिया। लेकिन तब भी ये केवल भौतिक संरचनाएँ हैं, धर्म, राष्ट्र, धन जैसी अभौतिक संरचनाओं के मुक़ाबले उनकी कोई बिसात नहीं, जो करोड़ों-अरबों लोगों को एक सूत्र में बाँधती हैं, जबकि उनका स्वयं का कोई अस्तित्व नहीं। दुनिया सत्यों के आधार पर नहीं, सामूहिक-भ्रमों के आधार पर संचालित होती है। एक बार आप किसी कल्पना पर सर्वसम्मति बना लें तो वह वास्तविकता बन जाती है- मनुष्यों के दिमाग़ के भीतर।

फ़ेनमान ने कहा था कि हमें क्यों का प्रश्न नहीं पूछना चाहिए, क्योंकि इसका कोई उत्तर नहीं है। लेकिन क्या और कैसे वाले प्रश्न निरन्तर पूछने चाहिए, ताकि क्यों की असम्भवता को और अच्छे-से परख सकें। मेरे हिसाब से तीन ही विद्याएँ श्रेष्ठ हैं- विज्ञान जो पदार्थ के स्वरूप का चिंतन करता है, साहित्य जो मनुष्य के मन-हृदय के आवेगों पर मनन करता है, और अध्यात्म जो चेतना की निर्मिति का दर्शन करता है। शेष सभी विद्याएँ इन तीन के समक्ष गौण हैं।

Sunday, 17 July 2022

इंटरस्टेलर में ग्रैविटी


सुशोभित

फ़िल्म इंटरस्टेलर में एक दु:साहसपूर्ण हाइपोथीसिस को प्रस्तुत किया गया था और वो ये थी कि ग्रैविटी हायर-डायमेंशंस में भी यात्रा कर सकती है। फ़िल्म का नायक कूपर एक ब्लैकहोल में प्रवेश करने के बाद स्वयं को एक चार-आयामी टैसेरेक्ट में पाता है। वह धरती से असंख्य प्रकाश-वर्ष दूर और बीसियों वर्षों के फ़ासले पर है, लेकिन ग्रैविटी के माध्यम से वह अपने अतीत से संवाद कर पाता है। समय यहाँ पर एक फ़िज़िकल डाइमेंशन की तरह है, जिसमें ठीक उसी तरह से यात्रा की जा सकती है, जैसे हम स्पेस के तीनों आयामों में आगे, पीछे, दाएँ, बाएँ, ऊपर, नीचे गति कर सकते हैं।

नोबेल पुरस्कार विजेता भौतिकविद् किप थोर्न इंटरस्टेलर के परामर्शदाता थे। वे आज ग्रैविटेशनल फ़िज़िक्स के दुनिया के सबसे बड़े जानकारों में से हैं। उन्होंने बाद में एक किताब भी लिखी, जिसका शीर्षक था- द साइंस ऑफ़ इंटरस्टेलर। वे अच्छी तरह जानते थे कि वे इस फ़िल्म में क्या दिखा रहे हैं। कूपर का ब्लैकहोल में प्रवेश कर ग्रैविटी के माध्यम से अपने अतीत से संवाद करना कोई फ़ंतासी नहीं थी, वो थ्योरिटिकल रूप से एक पुख्ता साइंस थी। अब प्रश्न उठता है कि उन्होंने ऐसा क्यों प्रदर्शित किया कि ग्रैविटी हायर-डायमेंशंस में इंटरेक्ट कर सकती है।

अव्वल तो हम यह समझ लें कि हमारा स्पेस तीन-आयामी है। जब हम किसी चित्र को देखते हैं तो एक दो-आयामी घटना को देख रहे होते हैं। जब हम परदे पर कोई फ़िल्म देखते हैं तो हम एक तीन-आयामी यथार्थ का दो-आयामी चित्रण देख रहे होते हैं, बशर्ते फ़िल्म थ्री-डायमेंशनल न हो, जिसे हम एक विशेष त्रिआयामी चश्मे से देख रहे हों। कार्ल सैगन ने अपने टीवी शो कॉसमॉस में ऐसे दो-आयामी प्राणियों की परिकल्पना की थी, जो एक फ़्लैट-यूनिवर्स में जी रहे हैं। वे आगे और पीछे जा सकते हैं, दाएँ और बाएँ जा सकते हैं, लेकिन वे कभी ऊपर और नीचे नहीं जा सकते, न ही ऊपर और नीचे के आयामों को कभी पर्सीव कर सकते हैं। मनुष्य वैसा कर सकते हैं। 

किंतु अगर कोई पाँचवाँ आयाम हो (क्योंकि चौथा आयाम समय है और हमारी अनुभूति के दायरे में है, अलबत्ता हम उसमें आगे या पीछे यात्रा नहीं कर सकते), या कोई छठा-सातवाँ, आठवाँ-नौवाँ-दसवाँ आयाम हो, तो उन्हें समझने में मनुष्य उसी तरह से असमर्थ होगा, जैसे वे दो-आयामी प्राणी ऊँचाई और गहराई को नहीं समझ पाते थे। स्टीफ़न हॉकिंग ने अपने बीबीसी ब्लैकहोल लेक्चर्स में कहा था कि ज्ञात-ब्रह्माण्ड किसी दस या ग्यारह आयामी स्पेस की चार-आयामी सतह भर है। हम इन उच्चतर-आयामों को कभी देख नहीं सकेंगे, क्योंकि लाइट उनमें गति नहीं कर सकती, अलबत्ता ग्रैविटी उन उच्चतर-आयामों में यात्रा कर सकती है। फ़िल्म इंटरस्टेलर में इसी थ्योरी को इस्तेमाल करके एक नाटकीय कहानी बुनी गई है। 

इसी से जुड़ी एक थ्योरी यह भी है कि वास्तव में ग्रैविटी उन उच्चतर-आयामों में हमारी तीन-आयामी दुनिया की तुलना में कहीं ज़्यादा प्रभावी रहती है। और चूँकि वो उन उच्च-आयामों में रिसती रहती है, इसीलिए वह हमारे द्वारा जानी गईं चार फ़ंडामेंटल फ़ोर्सेस में सबसे कमज़ोर फ़ोर्स है। ये चार फ़ंडामेंटल फ़ोर्स हैं- ग्रैविटेशनल फ़ोर्स, इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फ़ोर्स, वीक न्यूक्लियर फ़ोर्स और स्ट्रॉन्ग न्यूक्लियर फ़ोर्स। इन चारों में स्ट्रॉन्ग न्यूक्लियर फ़ोर्स सबसे ताक़तवर और ग्रैविटी सबसे कमज़ोर है। जबकि यही वह ग्रैविटी है, जो अंतरिक्ष में ग्रहों और पिण्डों को बाँधे हुए है, उन्हें अपनी ओर्बिट में घुमा रही है, जो मनुष्यों को धरती पर टिकाए हुए है, जो समुद्र में ज्वार उत्पन्न करती है, और जिसे भेदने के लिए अत्यंत शक्तिशाली ऊर्जा की आवश्यकता है, जो एस्केप-वेलोसिटी कहलाई है। इसके बिना आप अंतरिक्ष में नहीं जा सकेंगे, ग्रैविटी आपको खींचकर धरती पर पटक देगी।

प्रश्न यह है कि ग्रैविटी दूसरे आयामों में भी प्रभावी है, इस मान्यता का आधार क्या है? स्ट्रिंग थ्योरी ने इसका एक हाइपोथेटिकल जवाब- क्योंकि समस्या भी हाइपोथेटिकल है- खोजने की कोशिश की है। 

स्ट्रिंग थ्योरी एक ऐसा थ्योरिटिकल-फ्रेमवर्क है, जो जनरल रेलेटिविटी और क्वांटम भौतिकी के अंतर्विरोधों को पाटने का काम करती है। स्ट्रिंग थ्योरी कहती है कि जिस तरह से लाइट (इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फ़ोर्स) का क्वांटम पार्टिकल फ़ोटोन है, उसी तरह ग्रैविटी का भी एक क्वांटम पार्टिकल होता है, जिसे हम ग्रैविटोन कह सकते हैं। ये दोनों ही मास-लेस एलीमेंट्री पार्टिकल हैं। फ़ोटोन ओपन स्ट्रिंग्स हैं और ग्रैविटोन क्लोज़्ड-स्ट्रिंग्स हैं। ओपन स्ट्रिंग्स आयामों के परे यात्रा नहीं कर सकतीं, लेकिन क्लोज़्ड स्ट्रिंग्स ऐसा कर सकती हैं। यही कारण है कि लाइट दूसरे आयामों में नहीं जा सकती, जिससे हम उन्हें देख नहीं सकते, लेकिन ग्रैविटी वहाँ जा सकती है। इससे वह हमारे आयामों में भले कमज़ोर हो जाती हो लेकिन देखें तो वो हमारे और उच्चतर आयामों के बीच एक कड़ी भी है। एक सेतु।

ग्रैविटी एक रहस्यमयी शक्ति है, जिसे अभी तक पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है। अब यह भी कहा जा रहा है कि जिस तरह ग्रैविटी दूसरे आयामों में यात्रा करती है, उसी तरह से वह दूसरे और उच्चतर आयामों के ग्रैविटोन्स को भी हमारे आयामों में ले आती है, जिससे हमें डार्क मैटर का अहसास होता है, लेकिन हम उसे पूरी तरह से पर्सीव नहीं कर सकते। हम एक त्रिआयामी स्पेस में जकड़े हुए हैं- ट्रैप्ड हैं- और चाहकर भी इस भौतिक बंधन को तोड़ नहीं सकते। आप यह भी कह सकते हैं कि कदाचित् उच्चतर आयामों के प्राणी ठीक इसी समय हमारे बीच मौजूद हैं, लेकिन हम उन्हें कभी देख या अनुभव नहीं कर सकेंगे। यह एक सुपरनेचरल हाइपोथीसिस है। एक सीमा के बाद विज्ञान रहस्यवाद बन ही जाता है।

इंटरस्टेलर का वह साँसें थमा देने वाला यादगार दृश्य है कि फ़िल्म का नायक कूपर दूसरे आयामों से ग्रैविटी के माध्यम से अपनी बेटी को वह क्वांटम डाटा सम्प्रेषित कर रहा है, जो उसने ब्लैकहोल के भीतर प्राप्त किया है। उसकी बेटी समय और स्पेस में उससे बेमाप दूरी पर मौजूद है, लेकिन उसके मैसेज को डिकोड कर लेती है। यह बेशक़ीमती डाटा धरती की रक्षा करने में सक्षम है। 

तब आप कह सकते हैं कि केवल ग्रैविटी ही डायमेंशंस के परे यात्रा नहीं करती- प्यार और लगाव जैसे इंसानी अहसास भी वैसी सुदूरगामी यात्राओं में सक्षम हैं- लेकिन उन अहसासों के बारे में बात करना यहाँ मुनासिब नहीं होगा। यह लेख साइंस के बारे में है और प्यार का कोई क्वांटम पार्टिकल अभी तक नहीं जाना गया है!


Saturday, 16 July 2022

आइंश्टाइन और प्लान्क

सुशोभित

बीसवीं सदी के आरम्भिक वर्षों में दो जर्मन वैज्ञानिकों के निमित्त भौतिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण घटना घट रही थी। एक घटना का नाम था जनरल रेलेटिविटी- जो अल्बर्ट आइंश्टाइन के माध्यम से रूपायित हुई। दूसरी घटना का नाम था- क्वांटम थ्योरी- जो मक्स प्लान्क के माध्यम से अस्तित्व में आई।

जनरल रेलेटिविटी बड़ी से बड़ी चीज़ों के बारे में बात करती है, जैसे स्पेस, टाइम, ग्रैविटी, यूनिवर्स। क्वांटम थ्योरी छोटी से छोटी चीज़ों के बारे में बात करती है, जैसे एटम्स, सब-एटॉमिक पार्टिकल्स, एलीमेंट्री पार्टिकल, क्वार्क। परस्पर विरोधी दिशाओं में यात्रा करने वाली इन दोनों थ्योरियों की बुनियाद पर आधुनिक भौतिकी की इमारत टिकी है। अब जाकर स्ट्रिंग थ्योरी में इन दोनों का सुमेल हो रहा है और क्वांटम ग्रैविटी की अवधारणा सामने आ रही है। यहाँ स्टीफ़न हॉकिंग का नाम उल्लेखनीय है, जिन्होंने क्वांटम मैकेनिक्स के आधारभूत सिद्धांतों की मदद से जनरल रेलेटिविटी के विषयों को समझने की कोशिश की थी- जैसे ब्लैक होल जैसी भीमकाय एस्ट्रोफ़िज़िकल परिघटना को पार्टिकल साइंस के माध्यम से विवेचित करना और हॉकिंग रैडिएशन के सिद्धांत को प्रतिपादित करना।

मॅक्स प्लान्क को वर्ष 1918 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया गया, क्वांटम थ्योरी के क्षेत्र में किए गए उनके कार्य के लिए (एनर्जी क्वांटा की खोज)। प्लान्क ने पाया था कि एनर्जी क्वांटम स्वभाव की होती है। मैटर की तरह लाइट में भी पार्टिकल्स होते हैं। ये ही पार्टिकल्स फ़ोटोन कहलाए। निष्कर्ष यह था कि लाइट भले ही एक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव की तरह यात्रा करती हो, लेकिन किसी ऑब्जेक्ट से टकराने पर पार्टिकल्स के रूप में विच्छिन्न होती है। यानी लाइट के स्वभाव में एक अवर्णनीय दोहरापन है। आगे चलकर यह वेव-पार्टिकल द्वैत अनेक भौतिकविदों को सिर खपाने पर मजबूर करने वाला था।

आइंश्टाइन 1915 में जनरल रेलेटिविटी का प्रतिपादन कर चुके थे, लेकिन बड़े मज़े की बात है कि इसके लिए उन्हें भौतिकी का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया गया। उन्हें भौतिकी का नोबेल दिया गया वर्ष 1921 में फ़ोटोइलेक्ट्रिक इफ़ेक्ट के नियमों की खोज के लिए।

यह जनरल रेलेटिविटी के बजाय क्वांटम मैकेनिक्स का विषय था और आइंश्टाइन वास्तव में प्लान्क के काम को ही आगे बढ़ा रहे थे। वास्तव में अनेक लोगों का यह भी मत है कि प्लान्क नहीं आइंश्टाइन ही क्वांटम थ्योरी के प्रतिपादक हैं।

गर्वीला भौतिकविद् उस नोबेल-विडम्बना पर मन ही मन व्यंग्य से मुस्करा बैठा होगा, क्योंकि यह सम्भव ही नहीं है कि आइंश्टाइन प्लान्क से प्रतिस्पर्द्धा नहीं रखते हों और स्वयं को उनसे अधिक प्रतिभाशाली नहीं समझते हों, ये और बात है कि प्लान्क अनेक मायनों में आइंश्टाइन के मेंटर थे। उन्होंने 1905 में युवा अल्बर्ट को फ़िज़िक्स जर्नल में अपने तीन महत्वपूर्ण पेपर्स प्रकाशित करवाने में मदद की। तब अल्बर्ट बेर्न के एक स्विस पेटेंट ऑफ़िस में नामालूम से कर्मचारी भर थे, लेकिन उन पेपर्स के प्रकाशन को आज भौतिकी की दुनिया में आइंश्टाइन के मिरेकल-ईयर ('एनस मिरेबिलिस') की तरह याद किया जाता है। इतना ही नहीं, प्लान्क ने 1913 में व्यक्तिगत तौर से आइंश्टाइन को बर्लिन आमंत्रित किया और उन्हें प्रोफ़ेसर का काम दिलाया। 

आप कह सकते हैं कि प्लान्क के सहयोग के बिना अल्बर्ट के लिए स्वयं को जर्मन-वैज्ञानिकों की मुख्यधारा में स्थापित कर पाना सरल नहीं होता। बर्लिन में प्लान्क और आइंश्टाइन के बीच गहरी मैत्री स्थापित हुई, अलबत्ता जब वे मिलते तो भौतिकी से ज़्यादा संगीत के बारे में बातें करते थे। वे दोनों म्यूज़िशियन भी थे, लेकिन दोनों में बहुत अंतर था। प्लान्क जहाँ राष्ट्रवादी थे, वहीं अल्बर्ट के मन में जर्मन राष्ट्र के प्रति लगाव या निष्ठा नहीं थी। वे स्वयं को विश्व-नागरिक समझते थे। साथ ही, जहाँ अल्बर्ट अज्ञेयवादी थे, वहीं प्लान्क के मन में लूथरियन चर्च के प्रति अडिग आस्था थी। प्लान्क की एप्रोच परम्परावादी थी, वहीं आइंश्टाइन रचनात्मक-विद्रोही थे और चीज़ों के प्रति कहीं नवोन्मेषी दृष्टि रखते थे।

यह मज़े की बात है कि प्लान्क और आइंश्टाइन दोनों ही क्वांटम थ्योरी के प्रति सहज नहीं थे- जबकि दोनों ने ही अपने प्रयत्नों से उसे सुस्थापित किया था। उन्हें नोबेल पुरस्कार भी क्वांटम प्रयोगों के लिए ही दिया गया। लेकिन हाइज़ेनबर्ग के अनसर्टेन्टिटी प्रिंसिपल को वे स्वीकार नहीं कर पाते थे। प्लान्क के बारे में कहा जाता है कि एनर्जी क्वांटा की खोज उनसे हो गई थी, वह उनका अभिप्रेत नहीं था। यही कारण है कि प्लान्क को अकसर एक 'अनिच्छुक विद्रोही' कहा जाता है। जबकि आइंश्टाइन समझते थे कि वे फ़ोटोइलेक्ट्रिक इफ़ेक्ट के बजाय जनरल रेलेटिविटी के लिए नोबेल के हक़दार थे। तो जहाँ एक द्वैत प्लान्क और आइंश्टाइन के बीच था, वहीं एक दूसरा द्वैत क्वांटम भौतिकी के साथ उस समय की प्रचलित भौतिकी के बीच भी था, जिसमें ये दोनों वैज्ञानिक एक छोर पर साथ खड़े थे। कहीं न कहीं, प्लान्क और आइंश्टाइन दोनों न्यूटन के क्लॉकवर्क-यूनिवर्स की प्रत्याशा रखते थे और नियमों को भंग करने वाले अराजक क्वांटम-व्यवहार को अस्वीकार करते थे।

1933 में जब नात्सी पार्टी सत्ता में आई तो आइंश्टाइन जर्मनी छोड़कर अमेरिका चले गए, लेकिन प्लान्क भरसक साहस से जर्मनी में बने रहे। उन्होंने दूसरे वैज्ञानिकों से भी अनुरोध किया कि इस मुश्किल समय में अपने देश का साथ न छोड़ें। यानी आइंश्टाइन ने अपने स्वभाव के अनुरूप व्यवहार किया, प्लान्क ने अपने स्वभाव के। जर्मनी में प्लान्क पूरे समय नात्सी-विज्ञान- जिसे दोयचे-फीजिक कहा जाता था- से संघर्ष करते रहे और आइंश्टाइन, हाइज़ेनबर्ग, फ्रित्स हैबर जैसे यहूदी वैज्ञानिकों के पक्ष में तक़रीरें करने से उन्होंने कभी संकोच नहीं किया। यह बात नात्सियों को अखर गई। दण्डस्वरूप 1936 में कैसर विल्हेल्म सोसायटी के प्रेसिडेंट के रूप में उनके कार्यकाल को समाप्त कर दिया गया। 1945 में उनके बेटे एरविन की नात्सी पुलिस के द्वारा हत्या भी कर दी गई थी।

1946 में दूसरे विश्व युद्ध के समापन के बाद जब रॉयल सोसायटी ऑफ़ लंदन ने आधुनिक भौतिकी के पितामह सर आइज़ैक न्यूटन की 300वीं जन्म-जयंती मनाई, तो जर्मनी से एक ही वैज्ञानिक को न्योता दिया गया- मक्स प्लान्क। आइंश्टाइन तब अमेरिकी नागरिक थे। जब 88 वर्ष के प्लान्क ने सभागार में प्रवेश किया तो सबने खड़े होकर करतलध्वनि से उनका स्वागत किया। अपने मित्र और मेंटर का वैसा भावभीना अभिवादन होते देख अल्बर्ट मन ही मन मुस्कराए तो होंगे।

1929 का एक चित्र है। प्लान्क के सम्मान में बर्लिन की जर्मन फ़िज़िकल सोसायटी ने प्रतिवर्ष एक स्वर्ण पदक देने का निर्णय लिया था, जिसे प्लान्क मेडल कहा जाता है। पहले प्लान्क मेडल के सुयोग्य पात्र के रूप में अल्बर्ट आइंश्टाइन- भला और कौन?- को चुना गया। स्वयं प्लान्क ने यह पदक आइंश्टाइन को सौंपा। उनकी दृष्टि आइंश्टाइन के चेहरे पर थी, लेकिन आइंश्टाइन कहीं और देख रहे थे। प्लान्क के चेहरे से एक लगावपूर्ण उदारता झलक रही थी- एक पूर्वपेक्षा थी- जबकि आइंश्टाइन के मुखमण्डल पर निरपेक्ष मुस्कराहट खेल रही थी और साथ ही एक उदासीनता और अन्य-भाव। प्लान्क-आइंश्टाइन द्वैत को रूपायित करने वाला इससे अर्थपूर्ण रूपक कोई दूसरा नहीं हो सकता था।


[ लोकप्रिय विज्ञान पर अगले माह प्रतिश्रुति प्रकाशन से प्रकाशित होने जा रही मेरी पुस्तक का एक अंश ]

जेम्स वेब से दरकार क्या है

 

चंद्रभूषण

बहुत लंबे इंतजार के बाद पिछले साल क्रिसमस के दिन छोड़े गए जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप की भेजी जिन तस्वीरों का पहला पुलिंदा नासा की ओर से जारी किया गया है, वे देखने में अद्भुत हैं। हर तस्वीर के साथ उसकी व्याख्या भी दी हुई है, जिसे पढ़कर आप उसके महत्व से परिचित हो सकते हैं। लेकिन ब्रह्मांड को लेकर दुनिया की समूची समझ बदल देने की जो क्षमता इस टेलीस्कोप में है, उसका एक अंदाजा भी हमें होना चाहिए, क्योंकि यहां से आने वाली सूचनाएं अगले दस-पंद्रह साल तक हमें चौंकाती रहेंगी। जेम्स वेब से पहले हबल टेलीस्कोप ने भी ऐसा ही किया था और आज ब्रह्मांड के बारे में हम जो कुछ भी जानते हैं, उसमें बहुत बड़ा योगदान हबल का है। लेकिन जेम्स वेब की ताकत हबल की सौ गुनी है और आसमान में उसकी जगह भी ऐसी तय की गई है, जहां से प्रेक्षणों का दायरा बहुत बढ़ जाता है।

खगोलशास्त्र से जुड़े सारे ही सवालों पर कुछ नई रोशनी जेम्स वेब के जरिये पड़ने की उम्मीद की जा रही है, लेकिन जो दो सवाल सबसे ज्यादा शिद्दत से इसके नतीजों का इंतजार कर रहे हैं, उनमें एक का संबंध ब्रह्मांड की उत्पत्ति से और दूसरे का पृथ्वी से इतर जीवन के साथ है। 13 अरब साल या उससे भी पहले की, दूसरे शब्दों में कहें तो ब्रह्मांड की उत्पत्ति के थोड़े ही समय बाद जन्मी नीहारिकाओं (गैलेक्सीज) और उनमें मौजूद तारों का धुंधला खाका हबल ने भी खींचा था लेकिन जेम्स वेब टेलीस्कोप ने तो अपने पहले ही पुलिंदे में 13.1 अरब प्रकाशवर्ष दूर स्थित एक पुरातन गैलेक्सी की तस्वीर उतार ली, जिसके स्पेक्ट्रम पर काम करके जाना जा सकेगा कि ब्रह्मांड की उत्पत्ति के मात्र 70 करोड़ साल बाद की इस रचना में तारों का स्वरूप कैसा है, किन पदार्थों से ये बने हैं और भौतिकी के नियम वहां किस तरह काम करते हैं।

दूरी और समय

पाठकों के लिए एक समस्या दूरी और समय के घालमेल की है। कोई चीज इतनी दूर है, यह बात तो समझ में आती है लेकिन वह इतनी पुरानी है, इस बात को कैसे समझा जाए। आपके बक्से में कोई दादाजी का कोट रखा है जो पचास साल पुराना है। इस बात का वही मतलब नहीं है, जो सूरज को देखकर यह कहने का कि यह जो दिन में ही दिखने वाला इतना बड़ा तारा गर्मी से हमारी हालत खराब किए हुए है, वह साढ़े आठ मिनट पुराना है। एक सेकंड में तीन लाख किलोमीटर चलने वाली रोशनी सूरज से निकलकर हम तक पहुंचने में साढ़े आठ मिनट लगाती है। आपके दो बार पलक झपकने के बीच अगर सूरज किसी वजह से फटकर सौ टुकड़े हो जाए, तो भी साढ़े मिनट तक वह आपको ज्यों का त्यों गोल ही नजर आ जाएगा। अब आप इस साढ़े आठ मिनट को कुछ लाख, करोड़ या अरब साल में बदलकर देखें। 

नासा के भेजे चित्र में दिखने वाली 13.1 अरब प्रकाशवर्ष दूर की वह गैलेक्सी असल में 13.1 अरब साल पहले वाली हालत में दिख रही है। वह अभी वहां है या फटकर नष्ट हो चुकी है, यह जानने का कोई तरीका हमारे पास नहीं है और कभी किसी के पास नहीं होगा। खगोलशास्त्र की एक बड़ी उलझन ब्रह्मांड के विकास की व्याख्या करने की है। इसके उत्पत्ति बिंदु, 13.8 अरब साल पहले हुए बिग बैंग से अबतक यह चाहे जितनी भी तेजी से फैला हो, पर उतना नहीं फैल सकता, जितना अभी फैला हुआ जान पड़ता है। इसकी व्याख्या के लिए ‘इन्फ्लेशन थिअरी’ पेश की गई, जिसे लेकर बहुत सारे विवाद हैं। कुछ वैज्ञानिक इसे भौतिकी में जादू घुसाने जैसा मानते हैं। स्टीफन हॉकिंग इसे रद्दी की टोकरी में फेंकने की उम्मीद लिए-लिए दुनिया से विदा हो गए। लेकिन व्यवहार में ऐसा तभी होगा जब इसको खारिज करने वाले कुछ प्रेक्षण आपके पास हों।

डार्क मैटर, डार्क एनर्जी

एक बहुत बड़ी गुत्थी डार्क मैटर की है। हमारी आकाशगंगा जैसी गैलेक्सियों के घूमने की प्रणाली का जो अध्ययन किया गया है, उसमें हर गैलेक्सी के लिए यह अलग-अलग निकलती है। हिसाब-किताब से यह अंदाजा मिलता है कि इनमें बहुत सारा- किसी-किसी में तो 90 फीसदी तक- वजन किसी ऐसे पदार्थ का है, जिसका किसी भी तरह प्रेक्षण हो ही नहीं पाता। इसी से मिलती-जुलती गुत्थी डार्क एनर्जी की है। आकाशगंगाएं एक दूसरे से दूर भाग रही हैं और जो जितनी दूर है वह उतनी ही ज्यादा तेजी से दूर भाग रही है। आखिर कौन सी चीज इन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर कर रही है? 

बाद में पता चला कि ब्रह्मांड अपनी मौजूदा उम्र के आधे से कम तक पहुंचा था, तभी उसके फैलने की रफ्तार अचानक बहुत तेज हो गई। इसके लिए जिम्मेदार अज्ञात ऊर्जा, डार्क एनर्जी क्या है, उसके नियम क्या हैं, कोई नहीं जानता। उम्मीद की जा रही है कि जेम्स वेब टेलीस्कोप अपनी उम्र पूरी करते-करते कुछ प्रेक्षण ऐसे दे जाएगा, जिनसे या तो इन्फ्लेशन, डार्क मैटर और डार्क एनर्जी से जुड़े सवालों के जवाब खोजने में कुछ मदद मिल सके, या फिर इन गुत्थियों के बगैर ब्रह्मांड की उत्पत्ति और विकास की व्याख्या करने वाला कोई अधिक सुसंगत सिद्धांत ही मिल जाए।  

रही बात पृथ्वी से इतर जीवन वाले सवाल की, तो इस बारे में कोई चौंकाने वाली तस्वीर अभी तक जेम्स वेब टेलीस्कोप से नहीं आई है। लेकिन 2013 में वाइड एंगल सर्च फॉर प्लैनेट्स (वास्प) द्वारा खोजे गए लगभग 1120 प्रकाशवर्ष दूर स्थित ग्रह वास्प 96 बी नाम के के बारे में एक अद्भुत बात उसने जरूर बताई है। बृहस्पति के आधे यानी पृथ्वी से हजार गुना वजन वाला यह विशाल गैसीय ग्रह अपने तारे वास्प 96 से लगभग सटा हुआ घूमता है। उसके इतने करीब से कि ग्रह का साल धरती के साढ़े तीन दिनों के ही बराबर निकलता है। 

नया ग्रह सिद्धांत

वास्प 96 तारा हमारे सूरज की डिट्टो कॉपी जैसा है और हम जानते हैं कि हमारे सौरमंडल में 88 दिनों के साल वाले बुध ग्रह पर बादल या धुंध जैसा कुछ भी नहीं पाया जाता। लेकिन वास्प 96 बी नाम के ग्रह को लेकर अपने पहले ही प्रेक्षण में जेम्स वेब टेलीस्कोप इस नतीजे पर पहुंचा है कि इस ग्रह का औसत तापमान 1027 डिग्री सेल्सियस है और लोहे तक को नरम रख ले जाने वाले इस ग्रह के भीषण वातावरण में न सिर्फ पानी की भाप मौजूद है, बल्कि यहां बादलों और धुंध की भी साफ शिनाख्त की जा सकती है। 

हमारे सौरमंडल से बाहर अभी तक पांच हजार से कुछ ज्यादा ग्रह खोजे जा सके हैं। इनके निर्माण और विकास को लेकर कोई भरोसेमंद सिद्धांत यह तादाद एक लाख के आसपास होने के बाद ही बनाया जा सकता है। उम्मीद की जा रही है कि जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप अगले दस साल के अंदर न सिर्फ यह संख्या पूरी कर देगा, बल्कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के इस्तेमाल से सैकड़ों की तादाद में ऐसे चुनिंदा ग्रहों की भी पहचान की जा सकेगी, जिनपर जीवन की उत्पत्ति से जुड़ी कुछ बुनियादी स्थितियां पाई जाती हों। पृथ्वी से इतर जीवन को लेकर इससे आगे की खोजों के लिए ज्यादा फोकस्ड टेलीस्कोपों की जरूरत पड़ेगी, जो अभी के लिए दूर की बात है।

Wednesday, 13 July 2022

आइंश्टाइन रिंग

सुशोभित


कल से मुझे बारम्बार एक फ़िल्म का शीर्षक याद आ रहा है, जो अपने समय में बहुत चर्चित हुआ था- बेंड इट लाइक बैकहेम। यह फ़िल्म तब आई थी, जब इंग्लैंड के डेविड बैकहेम दुनिया के बड़े लोकप्रिय फ़ुटबॉलर थे। वे अपनी घुमावदार फ्री-किक के लिए चर्चित थे। तब सबकी यह ख़्वाहिश रहती थी कि वैसी ही ख़ूबसूरत फ्री-किक मारें, जो लहराती हुई गोलचौकी में समा जाए।

लेकिन कल सुबह जब नासा ने जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप की पहली सनसनीख़ेज़ तस्वीर जारी की तो मेरे ज़ेहन में एक वाक्य गूँजने लगा- बेंड इट लाइक आइंश्टाइन। 

लेकिन आइंश्टाइन तो फ़ुटबॉलर नहीं थे, तब फ्री-किक लगाने का प्रश्न ही नहीं उठता? फिर भी उस अनुगूँज की एक वजह है।

कल जब जेम्स वेब की डीप फ़ील्ड इमेज जारी की गई तो तमाम साइंटिस्टों- नील डीग्रास टायसन से लेकर मिचियो काक्यू और ख़ुद नासा के प्रेस-रिलीज़ जारी करने वाले अकादमिशियनों की ज़ुबाँ पर एक ही शब्द था- ग्रैविटेशनल लेंसिंग। यह कल के टॉप ट्रेंडिंग शब्दों में से एक था। कल यह इंटरनेट पर सर्वाधिक खोजे गए शब्दों में भी शुमार रहा। 

जब आप डीप फ़ील्ड इमेज को ध्यान से देखते हैं तो वहाँ आपको असंख्य मंदाकिनियाँ (गैलेक्सी) और नीहारिकाएँ (नेब्युला) तो दीखती ही हैं, हमारी अपनी आकाशगंगा के सितारे भी टिमटिमाते दीखते हैं, लेकिन साथ ही कुछ ऑब्जेक्ट्स ऐसे भी नज़र आते हैं, जो स्ट्रेच्ड-आउट हैं, जो खिंच गए से मालूम होते हैं। ऐसा लगता है जैसे वो बेंड हो गए हों, मुड़ गए हों। वास्तव में ऑब्जेक्ट्स बेंड नहीं हुए हैं, उनकी लाइट बेंड हुई है, जिससे ग्रैविटेशनल लेंसिंग का इफ़ेक्ट पैदा होता है। क्योंकि लाइट जब बेंड होती है तो उसे बेंड करने वाले ऑब्जेक्ट के पीछे के दृश्य को मैग्नीफ़ाय भी कर देती है।

और इस बात को सबसे पहले किसने पहचाना था- जब जेम्स वेब तो क्या हबल स्पेस टेलीस्कोप भी अपने अवतरण से बीसियों वर्षों के फ़ासले पर थी और अंतरिक्ष में दूर तक झाँकने वाली वैसी किसी दूरबीन की कल्पना भी नहीं की गई थी? जी हाँ, हमारे अपने अल्बर्ट आइंश्टाइन साहब ने, जिनके लिए इस लेख के आरम्भ में बेंड इट लाइक आइंश्टाइन की संस्तुति की गई है।

सौ से भी ज़्यादा साल पहले, 1915 में अल्बर्ट आइंश्टाइन ने जनरल रेलेटिविटी का प्रतिपादन किया था, जिसमें यह चकित कर देने वाला दु:साहसपूर्ण पूर्वानुमान था कि विशालकाय ऑब्जेक्ट्स की ग्रैविटी स्पेसटाइम के फैब्रिक को डिस्टॉर्ट (विरूप) करती है और लाइट को बेंड होने को मजबूर कर देती है। वो न्यूटोनियन ज़माना था, जब चीज़ें एब्सोल्यूट की भाषा में सोची जाती थीं। आइंश्टाइन ने उसमें रेलेटिव का सूत्रपात कर दिया था। परम अब सापेक्ष हो जाना चाहता था। इसे स्वीकारना कठिन था। क्योंकि भला लाइट कैसे बेंड हो सकती है?

तब साल 1919 में इंग्लैंड के वैज्ञानिक आर्थर एडिन्गटन ने एक प्रयोग किया और आइंश्टाइन को सही साबित कर दिया। 29 मई 1919 को घटित हुए पूर्ण सौर ग्रहण की उन्होंने तस्वीरें खींचीं और सूर्य के आसपास के क्षेत्रों में स्थित सितारों की पोज़िशनिंग का अध्ययन करके यह प्रमाणित किया कि लाइट बेंड होती है। अगले साल 1920 में उन्होंने अपना यह रिसर्च-पेपर छपवाया, जिसने आइंश्टाइन को यूरोप में सुपर-सितारा बना दिया। 

न्यूटोनियन यूनिवर्स ध्वस्त हो चुका था और अब हम आइंश्टाइन के संसार में प्रवेश कर चुके थे। 

ब्रिटेन में तब अनेक लोगों ने एडिन्गटन को देशद्रोही से कम नहीं समझा था, क्योंकि पहली लड़ाई अभी-अभी ख़त्म हुई थी, जिसमें जर्मनी इंग्लैंड का शत्रु था। और एडिन्गटन ने एक जर्मन वैज्ञानिक (आइंश्टाइन) को एक ब्रिटिश महानायक (न्यूटन) के ऊपर बिठालने की गुस्ताख़ी कर दी थी।

लेकिन तब से अब तक हम आइंश्टाइन के ही यूनिवर्स में जी रहे हैं- फिर चाहे ग्रैविटेशनल वेव्ज़ हों, वर्महोल्स की परिकल्पनाएँ हों, टाइम डाइलैशन हो या ग्रैविटेशनल लेंसिंग। यह जो ग्रैविटेशनल लेंसिंग है, यह आइंश्टाइन रिंग भी कहलाई है। देखें तो आइंश्टाइन के बाद वाला यूनिवर्स किसी अजायबघर से कम नहीं है, जिसमें अजीबो-ग़रीब चीज़ें घटित हो सकती हैं। पोस्ट-आइंश्टाइन यूनिवर्स का जो एस्ट्रोफ़िज़िसिस्ट है, वो भी अब किसी मिस्टीक या रहस्यदर्शी से कम नहीं है।

कल जब डीप फ़ील्ड इमेज जारी की गई तो वह मनुष्यता के इतिहास में अब तक की सबसे सुदूर और सबसे स्पष्ट तस्वीर थी। देखें तो जैसे एक गॉड्स आई नेब्युला है, उसी तरह से मनुष्यों ने अपनी एक दूरदर्शी आँख अंतरिक्ष में स्थापित कर दी थी, जो समय के परे देख सकती है। जब हम स्पेस में दूर तक देखते हैं तो ठीक उसी दौरान हम समय में बहुत पीछे तक भी झाँकते हैं, क्योंकि स्पेस और टाइम दो अलग चीज़ें नहीं, वे गुँथी हुई हैं- इंटरट्वाइन्ड हैं- यह भी आइंश्टाइन की ही स्थापना थी। डीप फ़ील्ड इमेज के माध्यम से कल हमने 13 अरब साल पीछे तक झाँककर देखा- सृष्टि की उत्पत्ति की लगभग दहलीज़ तक।

इससे पहले भी हबल स्पेस टेलीस्कोप से तस्वीरें आती रहती थीं, लेकिन जेम्स वेब से आई तस्वीरें हायर-रिज़ोल्यूशन की हैं। कह लीजिये कि ये अल्ट्रा एचडी इमेजरी है। गोया कि अभी तक साइंस की नज़रें कमज़ोर थीं, कल उसने बढ़िया लेंस वाली ऐनक पहन ली और अब वो बहुत दूर तक देख सकता है।

डीप फ़ील्ड इमेज में जो चीज़ स्पेसटाइम के कर्वेचर को वार्प कर रही है, वह गैलेक्सी क्लस्टर SMACS 0723 है- वोलन्स के तारामण्डल में स्थित कोई 5.12 अरब प्रकाश-वर्ष दूर मंदाकिनियों का एक गुच्छा। इसे हबल ने पहले देख लिया था, जेम्स वेब ने इसको और साफ़ दिखलाया है।

इसके बाद जेम्स वेब ने चार और दर्शनीय तस्वीरें जारी कीं, जिनमें कारिना नेब्युला की कॉस्मिक क्लिफ्स थीं, स्टीफ़ेन्स क्विन्टेट कहलाने वाली पाँच गैलेक्सीज़ की अंत:क्रियाएँ थीं और सदर्न रिंग प्लैनेटरी नेब्युला के विविधवर्णी रंग थे... लेकिन अभी तो ये शुरुआत भर है। सत्रहवीं सदी में गैलीलियो और न्यूटन ने आरम्भिक टेलीस्कोप बनाई थीं, वह यात्रा हबल से होते हुए अब जेम्स वेब तक चली आई है- जो हमें और सुदूर, और गहरे देखने को पुकार रही है।

देखने की तृष्णा कदाचित् इसी को कहते होंगे!

Google-सफलता और विफलता का सफर

शिवेश प्रताप

Google के पास उनकी असफल परियोजनाओं का बड़ा कब्रिस्तान है। और शायद यही कारण है की Google आज इनोवेशन में सबसे अग्रणी कंपनी है। Google इतनी मूल्यवान कंपनी है जो ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, मैक्सिको जैसे देशों के सम्पूर्ण अर्थव्यवस्थाओं से भी आगे जा चुकी है।

इनमें से कुछ परियोजनाओं में उनकी लागत दसियों मिलियन डॉलर आई और अंततः बंद हो गई जैसे Google+, Google प्रिंट या Google Hangouts आदि। गूगल के कुल 167 प्रोजेक्ट हैं जो गाजे बाजे के साथ असफल हुए फिर भी Google संसार में वैल्यू आधारित सेवाओं के सर्वश्रेष्ठ मानक तय करता है। 2010 में Google एक 30 अरब अमेरिकी डॉलर की कंपनी बन जाने के बाद भी अपनी असफलताओं को गर्व से स्वीकारती रही।

हम अक्सर उद्यमिता में एक महत्वपूर्ण बिंदु भूल जाते हैं: सफलता की कोई गारंटी नहीं है; यह धन, शीर्ष पायदान, टीम और बाजार किसी की परवाह नहीं करता। यदि दुनिया की सबसे उत्कृष्ट कंपनी Google विफलता का अनुभव कर सकती है, तो हमारे लिए समय-समय पर विफल परियोजनाओं का निर्माण करना काफी संभव और सामान्य बात है।

मेरे लिए सबसे बड़ा सबक यह है कि अगर कोई चीज एक निश्चित बिंदु से आगे काम नहीं कर रही है, तो असफलता को स्वीकार करना जरूरी है। साथ ही यह भी जरूरी है कि हम अपनी असफलता का बिल्ला गर्व से पहनें और इसे शर्मिंदगी की तरह न छिपाएं।

किसी कार्य या व्यवसाय में, असफलता हमें तब तक हारा हुआ नहीं बनाती, जब तक हम 'छोड़ने' के बजाय 'सफल होने के प्रयास' चुनते हैं।