Tuesday, 15 January 2013

मंगल पर होगी अनिद्रा की समस्या



पृथ्वी के बाद मंगल ग्रह पर जीवन की तलाश को लेकर वैज्ञानिक प्रयोग और अनुसंधान लंबे अरसे से जारी है. इसके बावजूद अभी तक यह निश्चिकत तौर पर नहीं कहा जा सका है कि मंगल ग्रह पर जीवन मुमकिन हो सकता है. हालांकि, अगर निकट भविष्य में वैज्ञानिक मंगल पर जीवन के होने की घोषणा करते भी हैं, तो भी इंसानों का जीवन वहां इतना आसान नहीं होगा. जानकारों के मुताबिक, पृथ्वी से लगभग 4.7 करोड. मील की यात्रा करने के बाद किसी भी अंतरिक्ष यात्री के लिए सामान्य परिस्थितियों में वहां रहना असंभव है. इससे संबंधित सबसे बड.ी चुनौती अनिद्रा की होगी. गौरतलब है कि वैज्ञानिक रूस में मार्स-500 प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं. इस दौरान मंगल ग्रह पर जाने वाले अंतरिक्षयात्रियों को एक विशेष यान में रखा गया है, जिसका वातावरण मंगल ग्रह जैसा है. इस वातावरण में रहने वाले अंतरिक्षयात्रियों को गहन निगरानी में रखा जा रहा है. पिछले दिनों इनके स्वास्थ्य की जांच की गयी, तो पता चला कि मंगल ग्रह की यात्रा के दौरान सबसे बड.ी चुनौती अनिद्रा की होगी. पिछले दिनों नासा ने मंगल ग्रह पर क्योरिसिटी रोवर को भेजा था. अब उसकी योजना निकट भविष्य में मंगल ग्रह पर इंसानों को भेजने की है.


No comments:

Post a comment