Sunday, 14 October 2012

इंडियन टीनेजर ने आइंस्टाइन को पीछे छोड़ा


भारतीय मूल की फैबिओला मान की उम्र महज 15 साल है, लेकिन उनका आईक्यू अल्बर्ट आइंस्टाइन और स्टीफन हॉकिंग से भी ज्यादा है। यकीन नहीं हो रहा! मूल रूप से गोवा की रहने वाली लंदन निवासी फैबिओला मान ने दुनिया की सबसे पुरानी और बड़ी हाई आईक्यू सोसायटी मेंसा आईक्यू टेस्ट में 162 पॉइंट्स हासिल कर अपनी इंटेलिजेंस का लोहा मनवा लिया।

इस आईक्यू के साथ फैबिओला का नाम दुनिया के टॉप 1 पर्सेंट इंटेलिजेंट लोगों की लिस्ट में शुमार हो गया है। फैबिओला का स्कोर बड़े-बड़े साइंटिस्ट्स से भी 2 पॉइंट्स आगे है। मेंसा सोसायटी की स्थापना 1946 में हुई थी। मेंसा ने इसी साल अगस्त में फैबिओला को मेंबरशिप दी थी। दिलचस्प बात यह है कि फैबिओला खुद इस स्कोर की उम्मीद नहीं कर रही थीं।
एक ई-मेल के जरिए फैबिओला ने बताया, 'मैंने मेंसा के बारे में सुना था सो मैंने टेस्ट देने के बारे में सोचा।' उन्होंने बताया कि वह पहेलियों में हमेशा से दिलचस्पी रखती थीं, इसलिए उन्होंने अप्लाई किया और अपने पैरंट्स को टेस्ट की फीस देने के लिए राजी कर लिया।
30 जुलाई को लंदन यूसीएल मेडिकल कॉलेज में तीन घंटे का टेस्ट आयोजित किया गया था। फैबिओला के मुताबिक, 'सवाल काफी कन्फ्यूजिंग थे और उनके जवाब देने का टाइम भी बहुत कम था। इसलिए मैं समझ नहीं पा रही थी कि मैंने कैसा टेस्ट दिया।'
फैबिओला की मां रेने अपनी बेटी के आईक्यू पर खासा गर्व महसूस कर रही हैं। उन्होंने कहा, 'मैंने मेंसा और बच्चों के आईक्यू लेवल के बारे में सुना था, अब मैं काफी खुश हूं कि मेरी बेटी भी टॉप आईक्यू बच्चों में से एक है।'(ref-nbt.in)

No comments:

Post a comment